voice-calling-from-jio-is-no-longer-free-mplive

जियो से वॉयस कॉलिंग अब फ्री नहीं

मुख्य समाचार, लाइफस्टाइल, व्यापार

Updated: 10 Oct 2019 ,

नई दिल्ली: अपने फ्री वॉयस कॉलिंग, इंटरनेट पैक्स जैसे ऑफर्स के साथ कस्टमर्स को सौगात देने वाली कंपनी जियो ने एक बड़ा फैसला लेते हुए अब कॉलिंग के लिए चार्ज लेने का एलान किया है. जियो कस्टमर्स को अब अब दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने के लिए 6 पैसा प्रति मिनट का चार्ज देना होगा. वहीं, जियो से जियो नेटवर्क पर कॉलिंग पहले की तरह फ्री रहेगी. अब तक जियो के साथ-साथ दूसरे नेटवर्क पर भी वॉयस कॉलिंग पूरी तरह से फ्री थी. अपने कस्टमर्स को बनाए रखने के लिए कंपनी ने फ्री डेटा की पेशकश की है.

इसके लिए कंपनी ने चार तरह के IUC Top Up वाउचर पेश किया है जो आपको आपके मंथली प्लान के अलावा खरीदने होंगे. जो 10, 20, 50 और 100 रुपए के हैं. अपनी जरूरत के हिसाब से आप टॉपअप चुन सकते हैं. ये नॉन जियो मिनट हैं जो दूसरे नेटवर्क पर काल करने के लिए इस्तेमाल किए जाएंगे. जियो नेटवर्क पर काल करने से ये डिडक्ट नहीं होंगे.

बता दें कि टॉप अप किसी वैलिडिटी पीरिएड के साथ नहीं आए हैं. इसलिए आप अपने हिसाब से इनका इस्तेमाल कर सकते हैं.

टॉपअप रिचार्ज

10 रुपये का टॉप अप- 124 नॉन जियो मिनट, 1GB फ्री डेटा

 

20 रुपये का टॉप अप – 249 नॉन जियो मिनट, 2GB फ्री डेटा

 

50 रुपये का टॉप अप – 656 नॉन जियो मिनट्स, 5GB फ्री डेटा

 

100 रुपये के टॉप अप- 1362 नॉन जियो मिनट्स, 10GB डेटा फ्री

इस फैसले के पीछे जियो ने भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) द्वारा पैदा की गई अनिश्चितता को जिम्मेदार बताया है. वहीं अन्य कंपनियों का कहना है कि यह जियो का ‘यू-टर्न’ है जिसने ग्राहकों को जीवनभर मुफ्त कॉल का वादा किया था.

बता दें कि साल 2017 में ट्राई इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज (IUC) को 6 पैसे प्रति मिनट तक घटा दिया था. ट्राइ ने कहा था कि 2020 तक इसे खत्म कर दिया जाएगा. ट्राइ अब अपने इस फैसले पर फिर से विचार कर रहा है, ट्राइ ने कंसल्टेशन पेपर मंगवाया है कि क्या इस टाइमलाइन को बढ़ाने की जरूरत है. जियो के नेटवर्क पर वॉइस कॉल फ्री हैं इसलिए इसे कोई पैसा नहीं देना पड़ता. लेकिन वहीं एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसे ऑपरेटर्स को इसके जरिए 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान करना पड़ा है.

क्या है इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज (IUC) ?

इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज या IUC एक मोबाइल टेलिकॉम ऑपरेटर द्वारा दूसरे को भुगतान की जाने वाली रकम है. जब एक टेलीकॉम ऑपरेटर के ग्राहक दूसरे ऑपरेटर के ग्राहकों को आउटगोइंग मोबाइल कॉल करते हैं तब IUC का भुगतान कॉल करने वाले ऑपरेटर को करना पड़ता है. दो अलग-अलग नेटवर्क के बीच ये कॉल मोबाइल ऑफ-नेट कॉल के रूप में जानी जाती हैं. ट्राई द्वारा IUC शुल्क निर्धारित किए जाते हैं और वर्तमान में यह 6 पैसे प्रति मिनट हैं.

Leave a Reply