Twitter से बाहर होने पर भी मालामाल होंगे पराग अग्रवाल! मिलेगी अरबों की रकम

मुख्य समाचार, व्यापार

Updated on: Oct 28, 2022

टेस्ला के प्रमुख एलन मस्क ने ट्विटर की कमान संभाल ली है. इसके बाद सामने आई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मस्क ने कंपनी के सीईओ पराग अग्रवाल समेत चार टॉप अफसरों को कंपनी से निकाल दिया है. एलन मस्क को ट्विटर की डील पूरी करने के लिए शुक्रवार तक का समय दिया गया था. अब अगर भारतीय मूल के पराग अग्रवाल ट्विटर के सीईओ पद से हटाए जाते हैं या फिर उन्हें कंपनी से निकाला जाता है तो उन्हें हर्जाने के रूप में बड़ी रकम मिलने की संभावना जताई जा रही है. रिपोर्ट के अनुसार कंपनी की ओर से पराग अग्रवाल को 42 मिलियन डॉलर यानी 3.45 अरब रुपये से भी अधिक की रकम मिल सकती है.

रिसर्च फर्म इक्विलर ने कुछ महीने पहले अपनी रिपोर्ट में कहा था कि अगर पराग अग्रवाल को ट्विटर के सीईओ पद से 12 महीनों के अंदर हटाया जाता है तो उन्हें उनकी बेसिक सैलरी और एक्विटी अवॉर्ड्स को मिलाकर बड़ी रकम अदा की जा सकती है. पराग अग्रवाल की महीने की सैलरी करीब 8.23 करोड़ रुपये होने की बात सामने आई थी.

पिछले साल नवंबर में संभाला था सीईओ पद

आईआईटी, बॉम्बे और स्टैनफॉर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़ाई कर चुके अग्रवाल ने एक दशक से अधिक समय पहले ट्विटर में नौकरी शुरू की थी. उस समय कंपनी में 1,000 से भी कम कर्मचारी हुआ करते थे. पराग अग्रवाल को पिछले साल नवंबर में कंपनी के सह-संस्थापक जैक डोर्सी के इस्तीफे के बाद ट्विटर का सीईओ नियुक्त किया गया था. लेकिन ट्विटर के प्रबंधन में एलन मस्क के हस्तक्षेप के बाद ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि पराग अग्रवाल अपनी नौकरी को जारी नहीं रखना चाहते हैं. मस्क ने भी यह कहा था कि वह ट्विटर के मैनेजमेंट पर भरोसा नहीं रखते हैं.

मस्क और पराग के बीच हुई थी ट्विटर पर नोकझोंक

ट्विटर डील के वक्त मस्क ने अपने फॉलोअर्स से पूछा था कि क्या ट्विटर खत्म हो रहा है. इस पर पराग अग्रवाल और एलन मस्क के बीच मैसेज के जरिये तल्खियां दिखी थीं. 9 अप्रैल को पराग अग्रवाल ने लिखा था, ‘आप यह खिलने के लिए स्वतंत्र हैं कि क्या ट्विटर खत्म हो रहा है? लेकिन यह मेरी जिम्मेदारी है कि मैं आपसे कहूं कि मौजूदा समय में ट्विटर को बेहतर बनाने में मुझे परेशानी हो रही है.’

विजय गड्डे को भी हटाया गया

दावा किया जा रहा है कि एलन मस्क ने ट्विटर के कानूनी मामलों के कार्यकारी अधिकारी विजय गड्डे को भी पद से हटा दिया है. न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के अनुसार, ‘पिछले साल ट्विटर के सीईओ नियुक्त किए गए अग्रवाल की मस्क के साथ सार्वजनिक और निजी रूप से कहासुनी हो गई थी. मस्क ने कंटेंट मॉडरेशन (ऑनलाइन सामग्री की निगरानी और छंटनी की प्रक्रिया) के मामले में गड्डे की भूमिका की भी सार्वजनिक तौर पर आलोचना की थी.’ (इनपुट एजेंसी से भी)

Leave a Reply